Friday, March 26, 2010

मेरा नसीब

वो आँखों से दूर दिल के करीब था , मैं उसका वो मेरा नसीब था , ना कभी मिला ना जुदा हुआ , रिश्ता हम दोनों का कितना अजीब था !!

1 comment: